1851 में वर्जिनिया अपने माँ बाप के साथ न्यू यॉर्क में रहती थीं | उनकी मौत हो गयी और उनको ब्रुकलिन में दफनाया गया | लेकिन फिर भी उनकी माँ यही कहती रही की उसकी बेटी जिंदा थी | उसके कहने पर उन्होनें जब वर्जिनिया के ताबूत को फिर निकाला तो उस पर नाखूनों के निशान थे | इससे साबित होता है की वर्जिनिया मरी नहीं थी बल्कि उसे जिंदा दफ़न किया गया था |

Please join our telegram group for more such stories and updates.

Books related to दफ़न