हैरां हूँ, दिल को रोऊँ कि पीटूँ जिगर को मैं
मक़दूर[1] हूँ तो साथ रखूँ नौहागर[2] को मैं

छोड़ा न रश्क[3] ने कि तेरे घर का नाम लूँ
हर इक से पूछता हूँ कि जाऊँ किधर को मैं

जाना पड़ा रक़ीब के दर पर हज़ार बार
ऐ काश, जानता न तेरी रहगुज़र को मैं

है क्या जो कस के बाँधिये मेरी बला डरे
क्या जानता नहीं हूँ तुम्हारी कमर को मैं

लो, वो भी कहते हैं कि ये बेनंग-ओ-नाम है
ये जानता अगर तो लुटाता न घर को मैं

चलता हूँ थोड़ी दूर हर-इक तेज़-रौ के साथ
पहचानता नहीं हूँ अभी राहबर[4] को मैं

ख़्वाहिश को अहमक़ों ने परस्तिश[5] दिया क़रार
क्या पूजता हूँ उस बुत-ए-बेदादगर[6] को मैं

फिर बेख़ुदी में भूल गया, राह-ए-कू-ए-यार
जाता वगर्ना एक दिन अपनी ख़बर को मैं

अपने पे कर रहा हूँ क़यास[7] अहल-ए-दहर[8] का
समझा हूँ दिल-पज़ीर[9] मताअ़-ए-हुनर[10] को मैं

"ग़ालिब" ख़ुदा करे कि सवार-ए-समंद-ए-नाज़[11]
देखूँ अली बहादुर-ए-आली-गुहर[12] को मैं

शब्दार्थ:
  1. सामर्थ्य
  2. मौत पर रोने वाला
  3. ईर्ष्या
  4. पथ-प्रदर्शक
  5. पूजा
  6. निष्ठुर प्रिय
  7. अनुमान लगाना
  8. दुनिया वाले
  9. दिल को लुभाने वाला
  10. हुनर की दौलत
  11. गर्व के घोड़े पर सवार
  12. अली बहादुर - एक पीर
Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to दीवान ए ग़ालिब


चिमणरावांचे चर्हाट
नलदमयंती
सुधा मुर्ती यांची पुस्तके
सापळा
झोंबडी पूल
अश्वमेध- एक काल्पनिक रम्यकथा
श्यामची आई
गांवाकडच्या गोष्टी
खुनाची वेळ
लोकभ्रमाच्या दंतकथा
मराठेशाही का बुडाली ?
शिवाजी सावंत
कथा: निर्णय
मृत्यूच्या घट्ट मिठीत
पैलतीराच्या गोष्टी