धम्मपद

धम्मपद बौद्ध साहित्य का सर्वोत्कृष्ट लोकप्रिय ग्रंथ है। इसमें बुद्ध भगवान् के नैतिक उपदेशों का संग्रह यमक, अप्पमाद, चित्त आदि 26 वग्गों (वर्गों) में वर्गीकृत 423 पालि गाथाओं में किया गया है। त्रिपिटक में इसका स्थान सुत्तपिटक के पाँचवें विभाग खुद्दकनिकाय के खुद्दकपाठादि 15 उपविभागों में दूसरा है। ग्रंथ की आधी से अधिक गाथाएँ त्रिपिटक के नाना सुत्तों में प्रसंगबद्ध पाई जा चुकी हैं। धम्मपद की रचना उपलब्ध प्रमाणों से ई.पू. 300 व 100 के बीच हो चुकी थी, ऐसा माना गया है।

Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to धम्मपद


बोरोबुदुर
धम्मपद
बामियान बुद्ध कैसे नष्ट हुए
बोधगया
बुद्ध की कहानियाँ 4
गौतम बुद्ध
बौद्ध धर्म
बुद्धचरित 2
बुद्धचरित 1
बुद्ध की कहानियाँ 1
जातक कथा संग्रह