कोरोना वायरस प्रकोप

क्वारंटाइन

वुहान कोरोना वायरस प्रकोप (2019–20) की शुरुआत एक नए किस्म के कोरोनवायरस (2019-nCoV) के संक्रमण के रूप में मध्य चीन के वुहान शहर में 2019 के मध्य दिसंबर में हुई। बहुत से लोगों को बिना किसी कारण निमोनिया होने लगा और यह देखा गया की पीड़ित लोगों में से अधिकतर लोग हुआँन सीफ़ूड मार्केट में मछलियाँ बेचते हैं तथा जीवित पशुओं का भी व्यापर करते हैं। चीनी वैज्ञानिकों ने बाद में कोरोनावायरस की एक नई नस्ल की पहचान की जिसे 2019-nCoV प्रारंभिक पदनाम दिया गया।

क्वारंटाइन

वायरस के प्रसार को रोकने के लिए 23 जनवरी 2020 को वुहान से बाहर और अन्दर आने-जाने पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया. उड़ानें, ट्रेनें, सार्वजनिक बसें, मेट्रो प्रणाली और लंबी दूरी के ट्रेनों को अनिश्चित काल के लिए निलंबित कर दिए गया। बड़े पैमाने पर एकत्रीकरण और समूह में पर्यटन को भी निलंबित कर दिया गया है। 24 जनवरी 2020 तक, वुहान सहित हुबेई के कुल 15 शहरों को भी इसी तरह के क्वारंटाइन के तहत रखा गया है। 27 और 28 जनवरी 2020 को, पहले अपने हवाई अड्डे और इंटरसिटी बस को बंद करने के बाद, शिंजियांग ने क्रमशः अपने रेलवे स्टेशनों को बंद कर दिया और सभी नौका परिचालन को निलंबित कर दिया।

क्वारंटाइन शुरू होने से पहले, वुहान में कुछ लोगों ने चीनी सरकार के आंकड़ों के साथ-साथ सरकार की प्रतिक्रिया पर भी सवाल उठाया, और एक वेइबो पोस्ट में बीमार लोगों और तीन शवों को फर्श पर सफेद चादर में ढके हुए दिखाया गया जिसको बाद में चीनी सरकार ने हटा दिया।

क्वारंटाइन के कारण, वुहान निवासी आवश्यक सामान, भोजन और ईंधन का भंडारण करने लगे; जिससे कीमतें काफी बढ़ गईं। मेडिकल स्टाफ को अपने अस्पतालों में आने जाने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ा, क्योंकि वे अब पैदल और निजी कारों के इस्तेमाल तक ही सीमित थे। टैक्सियों और निजी-किराए के वाहनों को गंतव्य स्थान की जानकारी देने पर जाने से मना कर देते हैं। शहर में 9,000,000 ही बचे हैं जबकि 5,000,000 लोगों ने वुहान छोड़ दिया।

बीजिंग और कई अन्य प्रमुख शहरों जैसे हांग्जो, ग्वांगझू, शंघाई और शेन्ज़ेन के स्थानीय अधिकारियों ने 26 जनवरी को घोषणा की, कि ये शहर हुबेई प्रांत के समान लॉकडाउन नहीं लगाएंगे। इन आधिकारिक घोषणाओं से पहले संभावित लॉकडाउन की अफवाहें व्यापक रूप से फैल गई। बीजिंग के नगर परिवहन आयोग के एक प्रवक्ता ने दावा किया कि एक्सप्रेसवे और राजमार्ग, साथ ही सबवे और बसें सामान्य रूप से चल रही हैं। निवासियों की दहशत को कम करने के लिए, हांग्जो शहर के प्रशासन ने जोर देकर कहा कि शहर को बाहरी दुनिया से बंद नहीं किया जाएगा, और दोनों शहरों ने कहा कि वे संभावित जोखिमों के खिलाफ सावधानी बरतेंगे।

2 फरवरी 2020 को, झेजियांग प्रांत के वानजाउ शहर ने 54 राजमार्ग चेकपॉइंट में से 46 को बंद करते हुए आंशिक लॉकडाउन लागू किया।

4 फरवरी 2020 को, झेजियांग प्रांत के दो और शहरों ने निवासियों के आवागमन को प्रतिबंधित कर दिया। शहर के अधिकारियों ने कहा कि Taizhou शहर, तीन हांग्जो जिले, और Ningbo में हर दो दिन में एक परिवार से एक व्यक्ति को घर से बाहर जाने की अनुमति दी। नए प्रतिबंधों से 12 मिलियन से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं।

6 फरवरी 2020 तक, कुल चार झेजियांग शहर - वानजाउ, हांग्जो, निंगबो और Taizhou - "पासपोर्ट" प्रणाली के तहत चल रहे थे, इसके तहत प्रति परिवार केवल एक व्यक्ति को हर दो दिन में अपना घर छोड़ने की अनुमति होती है। ये प्रतिबंध 30 मिलियन से अधिक लोगों को प्रभावित करेंगे।

मुख्यभूमि चीन के बाहर, कुछ क्रूज जहाजों के यात्रियों में 2019-nCoV के लक्षण या सकारात्मक परीक्षण के बाद पुरे क्रूज को क्वारंटाइन कर दिया गया है। 30 जनवरी को इटली के Civitavecchia में कोस्टा Smeralda को क्वारंटाइन किया गया था, जब यात्रियों में फ्लू जैसे लक्षण विकसित होने लगे, बाद में वायरस के परीक्षण के नकारात्मक होने पर क्वारंटाइन को हटा दिया गया था।