मैंने क्या किया

सुरेंद्र प्रजापति की कथा

सुरेंद्र प्रजापतीसुरेंद्र प्रजापती हिंदी के नवोदित लेखक है !
Please join our telegram group for more such stories and updates.

Books related to मैंने क्या किया


मैंने क्या किया

सुरेंद्र प्रजापति की कथा

शनिवार व्रत कथा

शनि व्रत अग्नि पुराण के अनुसार शनि ग्रह की से मुक्ति के लिए "मूल" नक्षत्र युक्त शनिवार से आरंभ करके सात शनिवार शनिदेव की व्रत एवं पूजा की जाती है।

संतोषी माता व्रत एवं पूजा विधि

संतोषी माता व्रत एवं पूजा विधि, चालीसा, आरती

कथा गणेश की

विघ्नहर्ता, मंगलमूर्ति, लंबोदर, व्रकतुंड आदि कई नामों से जाने जाने वाले श्री गणेश की हर बात निराली है |जितने विचित्र उनके नाम हैं उतनी ही विचित्र हैं उन नामों के पीछे छुपी कहानियां | इस लेख में हम आपको गणेश की कुछ ऐसी बातें बताएँगे जिनसे शायद आप अवगत नहीं होंगे |

मुल्ला नसरुदीन के किस्से

मुल्ला नसरुदीन के किस्से

व्रत कथा और पूजन विधि

साईंबाबा के पूजन के लिए सभी दिनों में गुरुवार का दिन सर्वोत्तम माना जाता हैं| साईं व्रत कोई भी कर सकतें हैं चाहे बच्चा हो या बुजुर्ग या महिला|

शेख चिल्ली की कहानियाँ

शेख चिल्ली की कहानियाँ

भूत की मोजूदगी -संकेत और निवारण

क्या आपको कभी ऐसा लगा है की आप घर में अकेले नहीं है | या ऐसा महसूस हुआ हो की कोई आप पर नज़र रखे है | ये घर में किसी पारलौकिक शक्ति के मोजूद होने के इशारे हो सकते हैं | जानिए इस लेख में और ऐसे संकेतों और भूतों से छुटकारा पाने के कुछ सरल उपाय |

भूत बंगला

इस दुनिया में जहाँ कुछ बेहद आश्चर्यजनक चीज़ें हैं वहीँ कुछ ऐसी चीज़ें भी हैं जो बेहद खौफनाक है |भूतों का नाम सुन कर हम सभी लोग डर जाते हैं | लेकिन क्या आप जानते हैं की इस दुनिया में कई ऐसे घर हैं जहाँ भूतों का वास है | इतना इन भूतों का डर है की अब इन घरों में कोई भी जाना पसंद नहीं करता है |पेश हैं विश्व के ऐसे ही कुछ भूतीया घरों की जानकारी | हमें बताईये की क्या आप यहाँ जाना पसंद करेंगे ?

भूत - हकीकत या छलावा ?

आइये जानते हैं कुछ सत्य भूतों और उनकी हमारी दुनिया में मोजूदगी के बारे में

प्यार करने वालों

बेवफा से वफा न करना, उसके झूठे प्यार मे न पड़ना। वो तुम्हे बर्बाद कर डालेगी, बेवफा से कभी प्यार न करना।१। लड़की होती है धोखेबाज़, उन्हें रूह पर रहता नाज। अपने को कहती भोली भाली, आलू के साथ चुरा लाती है प्याज़।२। ये नहीं होती कभी भली, पैसा मांगे हमसे गली-गली। न दो अगर इन्हें फूटी कौड़ी, हमको कहती रोज बुरी भली।३। रूह सवारे चलती फिरती, ले स्कूटी गन्दे नाले पे गिरती। गन्दे नाले से जो उठाओ इन्हें, तो ये आशिक को भी भैया कहती।४। मन्द बुद्धी है लड़की नाम, इनसे बचना सब क काम। जो इनसे गर बच नहीं पाया, उस बन्दे का हुआ काम तमाम।५