नल-दमयन्ती

नल दमयन्तीके सौंदर्य की प्रशंसा सुनकर उससे प्रेम करने लगा। उनके प्रेम का सन्देश दमयन्ती के पास बड़ी कुशलता से पहुंचाया एक हंस ने। दमयन्ती भी अपने उस अनजान प्रेमी की विरह में जलने लगी। कैसे हुआ उनका मिलन? क्या अघटीत घटा? कैसे उभारे वे दोनो आपने जीवन के दुविधा से? इस कथा में प्रेम और पीड़ा का ऐसा प्रभावशाली पुट है कि भारत के ही नहीं देश-विदेश के लेखक व कवि भी इससे आकर्षित हुए बिना न रह सके।

Please join our telegram group for more such stories and updates.

Books related to नल-दमयन्ती


Doctor Vyomesh ji ke Lekh