भगवान बुद्ध ने अपने अनुयायीओं को पांच शीलो का पालन करने की शिक्षा दि हैं।

१. अहिंसा

पालि में – पाणातिपाता वेरमनी सीक्खापदम् सम्मादीयामी !

अर्थ – मैं प्राणि-हिंसा से विरत रहने की शिक्षा ग्रहण करता हूँ।

२. अस्तेय

पाली में – आदिन्नादाना वेरमणाी सिक्खापदम् समादियामी

अर्थ – मैं चोरी से विरत रहने की शिक्षा ग्रहण करता हूँ।

३. अपरिग्रह

पाली में – कामेसूमीच्छाचारा वेरमणाी सिक्खापदम् समादियामी

अर्थ – मैं व्यभिचार से विरत रहने की शिक्षा ग्रहण करता हूँ।

४. सत्य

पाली नें – मुसावादा वेरमणाी सिक्खापदम् समादियामी

अर्थ – मैं झूठ बोलने से विरत रहने की शिक्षा ग्रहण करता हूँ।

५. सभी नशा से विरत

पाली में – सुरामेरय मज्जपमादठटाना वेरमणाी सिक्खापदम् समादियामी।

अर्थ – मैं पक्की शराब (सुरा) कच्ची शराब (मेरय), नशीली चीजों (मज्जपमादठटाना) के सेवन से विरत रहने की शिक्षा ग्रहण करता हूँ।

Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to बौद्ध धर्म


बोरोबुदुर
बामियान बुद्ध कैसे नष्ट हुए
धम्मपद
बुद्ध की कहानियाँ 4
बोधगया
गौतम बुद्ध
बौद्ध धर्म
बुद्धचरित 2
बुद्धचरित 1
बुद्ध की कहानियाँ 1
जातक कथा संग्रह