मेघदूत - उत्तरमेघा

"मेघदूत" की लोकप्रियता भारतीय साहित्य में प्राचीन काल से ही रही है।

संकलित साहित्यऐसा साहित्य जिसके लेखक का पता नहीं

Books related to मेघदूत - उत्तरमेघा


कुमारसंभव

कुमारसंभव महाकवि कालिदास विरचित कार्तिकेय के जन्म से संबंधित महाकाव्य जिसकी गणना संस्कृत के पंच महाकाव्यों में की जाती है।

विक्रमोर्वशीय

विक्रमोर्वशीय कालिदास का विख्यात नाटक। यह पांच अंकों का नाटक है। इसमें राजा पुरुरवा तथा उर्वशी का प्रेम और उनके विवाह की कथा है।

कालिदास

कालिदास संस्कृत भाषा के महान कवि और नाटककार थे। उन्होंने भारत की पौराणिक कथाओं और दर्शन को आधार बनाकर रचनाएं की और उनकी रचनाओं में भारतीय जीवन और दर्शन के विविध रूप और मूल तत्व निरूपित हैं।

मेघदूत - पूर्वमेघा

"मेघदूत" की लोकप्रियता भारतीय साहित्य में प्राचीन काल से ही रही है।

अभिज्ञानशाकुन्तल

शकुंतला शृंगार रस से भरे सुंदर काव्यों का एक अनुपम नाटक है। कहा जाता है काव्येषु नाटकं रम्यं तत्र रम्या शकुन्तला (कविता के अनेक रूपों में अगर सबसे सुन्दर नाटक है तो नाटकों में सबसे अनुपम शकुन्तला है।)

ऋतुसंहार‍

ऋतुसंहार महाकवि कालिदास की प्रथम काव्यरचना मानी जाती है, जिसके छह सर्गो में ग्रीष्म से आरंभ कर वसंत तक की छह ऋतुओं का सुंदर प्रकृतिचित्रण प्रस्तुत किया गया है। इस खण्डकाव्य में कवि ने अपनी प्रिया को सबोधित कर छह ऋतुओं का छह सर्गों में सांगोपांग वर्णन किया है।

मेघदूत - उत्तरमेघा

"मेघदूत" की लोकप्रियता भारतीय साहित्य में प्राचीन काल से ही रही है।